थायरॉइड ग्रंथि एक तितली के आकार की ग्रंथि है जो गर्दन के सामने स्थित होती है। यह ग्रंथि थायरॉइड हार्मोन का उत्पादन करती है, जो शरीर के चयापचय, विकास और विकास को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

थायरॉइड रोग एक ऐसी स्थिति है जो थायरॉइड ग्रंथि के कार्य को प्रभावित करती है। थायरॉइड रोग के दो मुख्य प्रकार हैं: हाइपरथायरॉइडिज्म और हाइपोथायरॉइडिज्म


हाइपरथायरॉइडिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें थायरॉइड ग्रंथि बहुत अधिक थायरॉइड हार्मोन का उत्पादन करती है। इससे वजन कम होना, हृदय गति बढ़ना, चिड़चिड़ापन और अन्य लक्षण हो सकते हैं।

हाइपोथायरॉइडिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें थायरॉइड ग्रंथि पर्याप्त थायरॉइड हार्मोन का उत्पादन नहीं करती है। इससे वजन बढ़ना, थकान, कब्ज और अन्य लक्षण हो सकते हैं।

थायरॉइड रोग का कोई ज्ञात इलाज नहीं है, लेकिन इसका इलाज दवाओं, सर्जरी या रेडियोथेरेपी से किया जा सकता है।

थायरॉइड रोग के जोखिम को कम करने के लिए, आप स्वस्थ आहार खा सकते हैं और नियमित रूप से व्यायाम कर सकते हैं। थायरॉइड रोग के जोखिम को कम करने में मदद करने वाले कुछ विशिष्ट पोषक तत्वों में शामिल हैं:

आयोडीन:


आयोडीन थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन के लिए आवश्यक है। आयोडीन का सबसे अच्छा स्रोत समुद्री भोजन है, जैसे कि मछली, सीप और समुद्री शैवाल। अन्य आयोडीन युक्त खाद्य पदार्थों में अंडे, दूध और डेयरी उत्पाद शामिल हैं।

विटामिन डी:


विटामिन डी थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन में भी भूमिका निभाता है। विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत सूर्य का प्रकाश है। अन्य विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थों में अंडे, मछली और मशरूम शामिल हैं।

सेलेनियम:


सेलेनियम एक एंटीऑक्सीडेंट है जो थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन में भी मदद कर सकता है। सेलेनियम का सबसे अच्छा स्रोत ब्राजील नट्स हैं। अन्य सेलेनियम युक्त खाद्य पदार्थों में झींगा, टूना और सार्डिन शामिल हैं।

मैग्नीशियम:


मैग्नीशियम एक खनिज है जो थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन में मदद कर सकता है। मैग्नीशियम का सबसे अच्छा स्रोत हरी सब्जियां, नट्स और बीज हैं। अन्य मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों में साबुत अनाज, फल और डेयरी उत्पाद शामिल हैं।

जिंक:


जिंक एक खनिज है जो थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन और कार्य में मदद कर सकता है। जिंक का सबसे अच्छा स्रोत मांस, मछली और साबुत अनाज हैं। अन्य जिंक युक्त खाद्य पदार्थों में फलियां, बीज और नट्स शामिल हैं।

यदि आप थायरॉइड रोग के जोखिम को कम करने के लिए इन पोषक तत्वों को अपने आहार में शामिल करने का निर्णय लेते हैं, तो अपने चिकित्सक या आहार विशेषज्ञ से बात करें। वे आपको यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं कि आप अपने आहार से आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त कर रहे हैं।

Shubham

Shubham

Next Story