दुनिया की सबसे महंगी सब्जी की खेती को कर किसान भाई कमा सकते है लाखो का मुनाफा, जाने पूरी डिटेल

यह दुनिया की सबसे महनी सब्जी है और इस खेती को करने में कम लगत भी लगती है और मुनाफा भी अधिक होता है और इस खेती को दुनिया के कई देशो में किया जाता है जैसे की कनाडा ,यूरोप, आदि डॉ में और हमारे भारत में बहुत वर्षो पहले भारत में भी इसकी खेती हिमाचल के ठंडी जलवायु में शुरू की गई थी और विपणन सुविधाओं कमी और लागत अधिक बैठने के कारण किसानों ने इसकी खेती को करना कम शुरू कर दिया और अब यदि भविष्य में इसकी खेती भारत में होती है तो ये किसानों के लिए बंपर कमाई देने वाली खेती साबित हो सकती है। आइये हम आपको उसके बारे में कुछ जानकारिया दे और हाफ शूट्स की खेती ठन्डे जलवायु बाले देशो में होती है और इसका अच्छर बनने के काम में आता है और रयर बनाने के काम में आती है और इसलिए इसकी मार्किट में अच्छी खासी डिमांड में है

हॉप शूट्‌स की खेती के लिए भूमि और जलवायु :-

इस की खेती के लिए ठंडी जलवायु अच्छी मानी है और इसका पौधा ठंडी जलवायु में ही ठीक से विकसित होता हैऔर इसके पौधे कम से कम अधिकतम तापमान 19 डिग्री और न्यूनतम 25 डिग्री तापमान की जरूरत रहती है और हमारे भारत में हिमाचल प्रदेश इसकी खेती के लिए सबसे अच्छी जगह मानी जाती है और यहां की जलवायु हॉप शूट्स की खेती के लिए बहुत अच्छी भी होती है

जाने इसकी खेती के लिए मिटटी और p h मान के बारे में :-

इसकी खेती के लिए रेतीली दोमट मिट्‌टी और चिकनी दोमट मिट्‌टी को काफी अच्छा मना जाता है और इसकी खेती के लिए नदियों के तह की मिट्‌टी काफी बेहतर मानी जाती है और इसमें इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि उचित जल निकास वाली भूमि का चुनाव करना चहिये जिससे की खेतो में पानी इक्ट्‌ठा न हो।और इसकी खेती के लिए भूमि का पीएच मान 6 से 7 के बीच होना चाहिए

हॉप शूट्‌स की खेती को कैसे करे :-

इस की रोपाई करने के लिए खेतो में कम से कम 4 इंच गहरा कम्पोस्ट के मिक्चर कोडालते है और उसके बाद इसकी रोपाई की जाती है और इसके पौधे बेल की तरह फैलते है फिर इसे फैलने के लिए काफी सारी जगह मिल सके और रोपाई के बाद इसकी हल्की सिंचाई की जाती है और हॉप शूट्‌स के पौधे को शुरुआत में 6 से 8 घंटे धूप की जरूरत होती है और खेत में जलभराव नहीं हो, इसके लिए जल निकासी की उत्तम व्यवस्था करनी चाहिए.

मार्किट में इसकी बिकने की कीमत कितनी है जाने :-

आपको बता दे की विदेशो में इसकी कीमत 1000 यूरो प्रति किलो रखी है,और इस सब्जी की कीमत अलग अलग देशो में अलग होती है इसकी कीमत अलग-अलग देशों में अलग-अलग है. ुर इस सब्जी की कीमत हमारे भारत में 1 यूरो के हिसाब से 80 हजार रूपये प्रति किलो है इसलिए किसानो को इस सब्जी की खेती को करने से बम्पर मुनाफा होगा

Updated On 13 Feb 2024 11:26 AM GMT
Upasana

Upasana

Next Story