प्रधान मंत्री विश्वकर्मा कौशल सम्मान (PM VIKAS), जिसे आमतौर पर पीएम विश्वकर्मा के रूप में जाना जाता है, भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया एक कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों को सशक्त बनाना है। इस योजना के तहत 3 लाख लोन लेकर अपना कोराबार शुरू कर सकते हैं। इस स्कीम में लोगों को लोन तो मिलेगा ही, साथ ही स्किल ट्रेनिंग भी मिलेगी। आइये विस्तार से जानते हैं इस योजना के बारे में।

जानिए क्या है पीएम विश्वकर्मा योजना

केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना (PM Vishwakarma Yojana) को 17 सितंबर 2023 को शुरू किया था। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया यह कार्यक्रम लोहार, कुम्हार, बढ़ई, बुनकर और अन्य जैसे 18 नामित व्यवसायों में शामिल कारीगरों और शिल्पकारों को लाभ पहुंचाने के लिए बनाया गया है। इस योजना के जरिये जहां एक ओर लोगों को खुद का बिजनेस शुरू करने में मदद मिलेगी तो वहीं दूसरी तरफ यह कारीगरों और शिल्पकारों को सहायता मिलेगी।

इन 18 व्यवसायों को किया गया शामिल

योजना के तहत 18 व्यवसायों से जुड़े लोगों को शामिल किया गया है जिसमें, बढ़ई, नाव निर्माता, हथियार बनाने वाला, लोहार, हथौड़ा और टूल किट निर्माता, ताला बनाने वाला, सुनार, कुम्हार, मूर्तिकार, पत्थर तोड़ने वाला, मोची / जूता बनाने वाला / जूते बनाने वाला कारीगर, राजमिस्त्री, टोकरी / चटाई / झाड़ू निर्माता / कॉयर बुनकर, गुड़िया और खिलौना निर्माता (पारंपरिक), नाई, माला निर्माता, धोबी, दर्जी और मछली पकड़ने का जाल निर्माता। इन पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों को 'विश्वकर्मा' के रूप में जाना जाता है।

योजना के लिए पात्रता

18 वर्ष और उससे अधिक आयु के व्यक्ति, जो असंगठित क्षेत्र के भीतर परिवार-केंद्रित पारंपरिक व्यवसायों में हस्तशिल्प कौशल या कारीगर के काम में शामिल हैं, स्व-रोज़गार के आधार पर काम करते हैं, विश्वकर्मा योजना के माध्यम से सहायता के लिए पात्र हैं। कार्यक्रम में वर्तमान में 18 अलग-अलग व्यापार शामिल हैं, जैसे बढ़ईगीरी, लोहारगिरी, मिट्टी के बर्तन बनाना, बुनाई और बहुत कुछ।

योजना के लाभ

योग्य कारीगरों और शिल्पकारों को पीएम विश्वकर्मा प्रमाण पत्र और आईडी कार्ड प्रदान किया जाता है। ट्रेनिंग में लाभार्थी को 500 रुपये प्रतिदिन का स्टाइपेंड भी मिलता है। इसके अलावा पीएम विश्वकर्मा सर्टिफिकेट और आईडी कार्ड, बेसिक और एडवांस ट्रेनिंग जैसे स्किल की ट्रेनिंग दी जाती है। टूलकिट के लिए 15,000 रुपये की राशि दी जाती है और डिजिटल ट्रांजेक्शन के लिए इन्सेंटिंव दिया जाता है। स्कीम में 3 लाख तक का लोन मिल सकता है। पहले चरण में बिजनेस स्टार्ट करने के लिए 1 लाख रुपये का लोन दिया जाता है। इसके बाद बिजनस के विस्तार के लिए दूसरे चरण में 2 लाख रुपये तक का लोन मिलता है। यह लोन सिर्फ 5 फीसदी की ब्याज दर पर मिलेगा।

योजना के लिए दस्तावेज़

  • आधार कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • व्यवसाय का प्रमाण
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक के खाते का विवरण
  • आय प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो


पीएम विश्वकर्मा योजना के लिए ऐसे ऑनलाइन आवेदन करें

  • आधिकारिक वेबसाइट https://pmvishwakarma.gov.in/ पर जाएं।
  • रजिस्ट्रेशन लिंक पर क्लिक करके आगे बढ़ें।
  • अपने विवरण का उपयोग करके पंजीकरण करने के बाद, आवेदन पत्र पर जाएं।
  • अपना नाम, कौशल सेट, आधार कार्ड नंबर और अन्य जानकारी दर्ज करें जिसे दिए गए फ़ील्ड में भरना आवश्यक है।
  • पोर्टल पर आवेदन पत्र पूरा करें, अपने दस्तावेज़ जोड़ें, और फिर अंतिम सबमिशन करें।

Sumit

Sumit

Next Story