भारत के टेनिस स्टार सुमित नागल ने मंगलवार को कजाकिस्तान के दुनिया के 27वें नंबर के खिलाड़ी अलेक्जेंडर बुब्लिक को सीधे सेटों में हराकर अपने करियर में पहली बार ऑस्ट्रेलियन ओपन के दूसरे दौर में प्रवेश किया। 1989 के बाद पहली बार किसी भारतीय खिलाड़ी ने एकल मैच में वरीयता प्राप्त खिलाड़ी को हराया है। भारत के युवा खिलाड़ी सुमित के लिए ये बड़ी उपलब्धि है।


चुनौतियों से भरपूर रहा मैच

क्वालीफायर जीतने के बाद मुख्य दौर में अपना अधिकार अर्जित करने वाले भारतीय ने पहला सेट 6 -4 से जीता। फिर दूसरे सेट 6-2 में और तीसरे सेट में अधिक प्रभावशाली प्रदर्शन करते हुए 7-6 के अंतर से मात दी। कड़े संघर्ष वाले तीसरे सेट में, जिसका फैसला टाई ब्रेक से हुआ, 137वीं रैंक के भारतीय खिलाड़ी ने जीत हासिल कर दूसरे दौर में प्रवेश किया। सुमित नागल ने इस जीत के साथ ही इतिहास रच दिया। नागल ग्रैंड स्‍लैम में वरीय खिलाड़ी को मात देने वाले 35 साल में पहले भारतीय खिलाड़ी बने।




सुमित नागल ने रचा इतिहास

26 वर्षीय भारतीय 1989 के बाद से किसी भी ग्रैंड स्लैम में किसी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी को हराने वाले अपने देश के पहले खिलाड़ी हैं। किसी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी को हराने वाले आखिरी भारतीय रमेश कृष्णन थे, जिन्होंने तत्कालीन विश्व नंबर 1 मैट विलेंडर को आश्चर्यजनक रूप से हराया था। तब उन्होंने दूसरे दौर में स्वीडन के मैट्स विलेंडर को हराया था। विलेंडर तब टेनिस रैंकिंग में दुनिया के शीर्ष खिलाड़ी थे।

Sumit

Sumit

Next Story