भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच दूसरे टेस्ट के एक्शन से भरपूर पहले दिन के दौरान कुल 23 विकेट गिरे, जो किसी टेस्ट के पहले दिन विकेट गिरने की दूसरी सबसे बड़ी संख्या है। दक्षिण अफ्रीका के कप्तान डीन एल्गर ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया और दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 55 रन बनाए। इसके जवाब में भारत ने 153 रन बनाकर 98 रन की बढ़त ली। पहले दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 62/3 है। टेस्ट के पहले दिन में सबसे अधिक विकेट 1902 में ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड टेस्ट के दौरान थे, जब पहले दिन ही 25 विकेट गिरे थे।

दक्षिण अफ्रीका पहली पारी में 55 रन पर ढेर

दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और 23.2 ओवर में सिर्फ 55 रन पर ढेर हो गई, जिसमें काइल वेरेन (15) और डेविड बेडिंघम (12) दोहरे अंक को छूने वाले एकमात्र खिलाड़ी थे। मोहम्मद सिराज के 6/15 के आतिशी स्पैल ने प्रोटियाज़ के शीर्ष और मध्य क्रम को ध्वस्त कर दिया, जबकि जसप्रित बुमरा (2/25) और मुकेश कुमार (0/2) ने भी विकेट लिए।




पहली पारी में भारत का स्कोर

अपनी पहली पारी में, भारत एक समय 153/4 रन पर था, जिसमें विराट कोहली (59 गेंदों में 46, छह चौकों और एक छक्के के साथ), रोहित शर्मा (50 गेंदों में 39, सात चौकों के साथ) और शुबमन गिल (55 गेंदों में 5 चौकों के साथ 36 रन) ने स्कोर बनाए। लेकिन लुंगी एनगिडी के तीन विकेट के कारण भारत 34.5 ओवर में 153 रन पर आउट हो गया। दक्षिण अफ्रीका के लिए एनगिडी (3/30), कैगिसो रबाडा (3/38) और नंद्रे बर्गर (3/42) ने तीन-तीन विकेट लिए।

बिना कोई रन बनाए भारत के 6 विकेट गिरे

भारत बिना कोई रन बनाए लगातार छह विकेट खोने वाला पहला देश बन गया। एक समय भारत का स्कोर 153/4 था। लेकिन 10 गेंद के भीतर ही भारत 153 रन पर ढेर हो गया। अपनी पारी के दौरान, भारत ने कुल छह बार शून्य पर आउट हुए, जिसमें यशस्वी जयसवाल, श्रेयस अय्यर, रवींद्र जड़ेजा, जसप्रित बुमरा, मोहम्मद सिराज और प्रसिद्ध कृष्णा शून्य पर आउट हुए, जो एक ही टेस्ट पारी में संयुक्त रूप से सबसे अधिक शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड है।

बाद में अपनी दूसरी पारी में, दक्षिण अफ्रीका ने दिन का अंत 62/3 पर किया, जिसमें एडेन मार्कराम (36*) ने सर्वाधिक स्कोर किया। कप्तान डीन एल्गर अपनी अंतिम टेस्ट पारी में 12 रन ही बना सके। मुकेश को दो जबकि बुमराह को एक विकेट मिला।

Sumit

Sumit

Next Story