Google ने जारी की वार्निंग अगर आपके फोन में स्टार्ट है ये ऐप तो तुरंत करें डिलीट

अगर आप भी अपने स्मार्टफोन में प्ले प्रोटेक्ट सिक्योरिटी वाले गूगल प्ले स्टोर से ऐप डाउनलोड करते हैं तो यह नया अपडेट आपको चौंका सकता है।

हाल ही में प्ले स्टोर पर एक संदिग्ध ऐप (ट्रोजन इन्फेक्टेड एंड्रॉइड ऐप) मिला।



मालूम हो कि गूगल अपने यूजर्स की सुरक्षा के लिए खुद गूगल प्ले स्टोर पर प्ले प्रोटेक्ट फीचर मुहैया कराता है। ऐसे में गूगल यूजर्स के लिए यह एक चौंकाने वाली खबर हो सकती है।

गूगल ने यूजर्स की सुरक्षा के लिए इस संदिग्ध ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया है। हालांकि, चौंकाने वाली बात यह है कि प्ले स्टोर पर मिला संदिग्ध ऐप पुराना है, जिसे पहले ही 50,000 डिवाइस पर डाउनलोड किया जा चुका है।

ऐप में किन खतरों का पता चला है?

दरअसल, गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद संदिग्ध ऐप का पता एक सिक्योरिटी फर्म ने लगाया है। बताया जा रहा है कि ऐप को डेवलपर ने साल 2021 में अपलोड किया था।



करीब एक साल बाद इस ऐप में कुछ संदिग्ध कोड डाले गए। यह संदिग्ध ऐप यूजर की जानकारी चुराकर दूसरे सर्वर पर अपलोड करने का काम कर रहा है। ऐप यूजर की जानकारी चुराने के लिए ऑडियो, वीडियो और वेब पेज ट्रैक कर रहा है।

Google Play Store पर कौन सा ऐप संदिग्ध पाया गया?

दरअसल, ESET के रिसर्चर्स की एक रिपोर्ट में संदिग्ध ऐप iRecorder के नाम का खुलासा हुआ है। iRecorder ऐप को सबसे पहले साल 2019 में प्ले स्टोर पर जोड़ा गया था।



इस बीच, ऐप में उपयोगकर्ता सुरक्षा के लिए किसी खतरे की पहचान नहीं की गई है। ठीक एक साल बाद, एक भेद्यता (ओपन-सोर्स AhMyth Android RAT) की खोज की गई जो ऐप में उपयोगकर्ता की जानकारी को लीक कर रही थी।

किन यूजर्स के लिए iRecorder ऐप बना खतरा?

अगस्त 2022 में इस ऐप को पहली बार डाउनलोड या अपडेट करने वाले यूजर्स के लिए यह एक बड़ा जोखिम है।



रिपोर्ट्स में कहा गया है कि ऐप फोन के माइक का इस्तेमाल कर अलग-अलग तरह की आवाजें रिकॉर्ड करने का काम करता है। इतना ही नहीं वह इन रिकॉर्डिंग्स को हमलावरों के सर्वर पर अपलोड भी कर रहा है।

Google का समाधान क्या है?

गूगल ने कहा है कि जिन यूजर्स के डिवाइस में ऐप है उन्हें तुरंत अलर्ट करने की जरूरत होगी। कंपनी ने यूजर्स को सलाह दी है कि वे तुरंत ऐप को डिलीट कर दें।

Updated On
ADMIN

ADMIN

Next Story